शनिवार, 22 सितंबर 2012

आओ सरकार-सरकार खेलें....


आओ सरकार-सरकार खेलते हैं । एक गठबंधन बनाते हैं । मैं तुम्हें समर्थन दूंगा । तुम मुझे सहयोग करना । प्रधानमंत्री तुम्हारी पार्टी से । गृह, रक्षा, वित्त और विदेश मंत्री भी तुम अपनी पार्टी के नेता को बना लो । मुझे कोई मंत्रालय नहीं चाहिए । लेकिन हमारी पार्टी गठबंधन में रहेगी । हम बाहर से समर्थन करेंगे ।

तुम जब चाहो, जिस विभाग में चाहो घोटाला करना । जब मर्जी हो, किसी भी चीज की कीमत अपने हिसाब से बढ़ा लेना । मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता है । लेकिन चूकि हमारी पार्टी गरीब, दलित, पिछड़ों और अल्पसंख्यकों की पार्टी है, इसलिए हम रौल बैक की मांग करेंगे । समर्थन वापसी की धमकी भी देंगे । तुम्हारे खिलाफ मीडिया में बोलेंगे । नारे लगाएंगे । प्रदर्शन करेंगे । यहां तक कि तुम्हारी पार्टी और मंत्री को गरियाऐंगे भी । लेकिन तुम घबराना मत । हम समर्थन वापस नहीं लेंगे । अगर कोई दूसरी पार्टी समर्थन वापस लेती है तो भी हम सरकार गिरने नहीं देंगे । चाहे जैसे भी हो । सहयोग देकर समर्थन लेना पड़े तो भी ।

 लेकिन इसके बदले तुम मुझे विकास फंड के नाम पर मोटी रकम दे देना । इसमें कटौती बिल्कुल नहीं । क्योंकि मुझे भी राज्य का, अपने मंत्रिमंडल का और नेताओं का विकास करना है । हां, केन्द्र प्रायोजित कुछ योजनाएं भी  विशेष रूप से मेरे राज्य में चलती रहना चाहिए । मिल बांटकर काम करेंगे । सरकार चलती रहेगी । 

राज्य में मेरी सरकार है । वहां तुम्हारी समर्थन की जरूरत नहीं है । लेकिन सहयोग जरूर करते रहना । अगर किसी घोटाले को लेकर सीबीआई जांच की मांग हो, कोई दंगा वगैरह हो तो तुम अपने हिसाब से संभाल लेना ।

घोटाला मिल बांटकर करेंगे । विपक्ष अगर ज्यादा हो हल्ला करे तो एक जांच आयोग बना देना । लेकिन ख्याल रहे कि जब तक मैं ज़िंदा रहूं तब तक आयोग की रिपोर्ट नहीं आनी चाहिए । इसके लिए तुम आयोग का कार्यकाल बढ़ाते रहना ।

एक बात और । चूकि हम चुनाव अलग-अलग लड़ते हैं । आगे भी अलग-अलग ही चुनाव लड़ेंगे । इसलिए सार्वजनिक तौर पर तुम्हारे हर मुद्दे का हम विरोध करेंगे । लेकिन अंतिम में समर्थन हम तुम्हारी सरकार का ही करेंगे ।

कभी-कभी ऐसा मौका भी आएगा, जब लगेगा कि मैं विपक्ष के साथ जा रहा हूं । मीडिया ज्यादा ज़ोर देगी । लोगों को दिखाने के लिए कुछ ऐसा बयान मुझे देना पड़ेगा, जो तुम्हें अच्छा नहीं लग सकता है । लेकिन इसे दिल से मत लगाना । क्योंकि वो सारी बातें सिर्फ मीडिया के लिए होगी । आम जनता को दिखाने के लिए होगी ।

हां एक बात और सुनो । अगर दाम बढ़ाने को लेकर हालात ज्यादा बिगड़ने लगे तो एक आध रूपये 
जरूर घटा देना । तुम भी जनता की हक़ की बात कहकर वाहवाही लूटना । और मैं लोगों को बताऊंगा कि  मेरे दबाव में दाम घटाया गया है ।

मेरे खिलाफ सीबीआई में जितने भी केस हैं, उसकी फाइल बंद रहनी चाहिए । मुमकिन हो तो तमाम मामलों में मुझे बड़ी कर दिया जाए । या फिर जांच की रफ्तार धीमी कर दी जाए ।
तुम मेरी इन बातों का ध्यान रखना । 

हम सरकार-सरकार खेलते  हुए पांच साल यूं ही गुजार देंगे । और फिर चुनाव की घोषणा के बाद गठबंधन तोड़ देंगे । 

5 टिप्‍पणियां:

  1. राजनीतिक दलों के बारे में सही लिखा है....खासकर मुलायम तो पक्का ऐसे ही हैं...

    उत्तर देंहटाएं
  2. थोड़ा कहा बहुत समझना - ब्लॉग बुलेटिन ब्लॉग जगत मे क्या चल रहा है उस को ब्लॉग जगत की पोस्टों के माध्यम से ही आप तक हम पहुँचते है ... आज आपकी यह पोस्ट भी इस प्रयास मे हमारा साथ दे रही है ... आपको सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  3. राजनीति के खेल को समझने के लिए जरूरी होता है उसे समझना..तो इसे बहुत ही उम्दा तरीके से पेश किया है आपने सर...

    उत्तर देंहटाएं
  4. अंकुर भाई किसी शायर ने कहा कि ... तुम अभी सियासत की ज़ुबान नहीं समझोगे... अभी तुम इंसान हो....

    उत्तर देंहटाएं
  5. क्या बात है अंकुर जी, देखन में शांत लगें, बातें करें गंभीर, ऐसे ही लिखते रहिए और हम लोग पढ़ते रहेंगे.....

    उत्तर देंहटाएं